Bharat mein kitne rajya hain? इतिहास | संस्कृति | भारत के राज्यों का नाम

4/5 - (4 votes)

प्रणाम मित्रों एक ऑनलाइन मित्र होने के नाते यह मेरा कार्य है कि मैं आप तक सही जानकारी पहूंचाऊं, और यही कारण है कि मैं आपके साथ वो जानकारियों जेसे Mobile se paise kaise kamaye को साझा करता हूँ जिसके बारे में आपको ज्ञान जोनी चाहिए, इसलिए आज आपके साथ एक और जानकारी को साझा करने जा रहा हूँ जिसका नाम है Bharat mein kitne rajya hain।

यह प्रश्न लगभाग हजारों के मन मे आता है हालांकि सब भारतीय है किंतु हमारे भारत के बारे में पर्याप्त जानकारी नही है, इसलिए आप सबको यह जानना चाहिए कि Bharat mein kitne rajya hain, और इससे जुड़ी अन्य जानकारी भी, तो मित्रों चलिए बिना समय ब्यतीत किए इस लेख में आगे बढ़ते है।

Bharat mein kitne rajya hain?

Bharat mein kitne rajya hain
Bharat mein kitne rajya hain

भारत मे कुल 29 राज्य और 9 केंद्र शासित प्रदेश जैसे दिल्ली हुआ करते थे, किन्तु अब यह आंकड़ा घाट कर 28 राज्य और 8 केंद्र शासित प्रदेश रहे गेय है। हमारा भारत पहले के मुकाबले आज अनेक ऊंचाइयों को चुन रहा है क्योंकि एक समय मे यह सोने की चिड़िया कहलाता था।

किन्तु अंग्रेजों की शासन काल मे यह नाम केवल एक नाम मात्र ही रहे गेया है, परंतु हमारा भारत भी आज बिकास की ओर बढ़ रहा है। इसीके साथ चलिए आपको बताते है भारत के सभी राज्यों के नाम।

भारत के राज्य का नाम

Bharat mein kitne rajya hain?
Bharat mein kitne rajya hain

आंध्र प्रदेश

आंध्र प्रदेश भारत का ही एक राज्य है जो इसके दक्षिण-पूर्वी तट पर स्थित है। इसका राजधानी हैदराबाद है जहां पर दूसरी सबसे लंबा समुद्र तट जिसकी लंबाई 972 किलोमीटर है।

मुझे यहां की भोजन बाद पसंद आता है जिसमे सांबर इटली, चिकन भी शामिल है, यहां की भोजन भारत के अन्य राज्यों से भिन्न है ऐसा लगता है कि यहां के लोग अपने ही एक अलग दुनिया बनाये है।

अरुणाचल प्रदेश

अरुणाचल प्रदेश को 1972 में एक केंद्र शासित केंद्र का दर्जा दिया गया जिसे बाद में 20 फरवरी 1987 को भारत के 24 वे राज्य के रूप में घोषित किया गया था।

अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर है। यह राज्य पूर्वोत्तर भारत के सेवन सिस्टर स्टेट्स का सबसे बड़ा राज्य है।

असम

असम भी एक प्रमुख राज्य में से है जहां की संस्कृति बिल्कुल मैन को मोह लेने वाली है, यहां पर पहले बैसाख में बिहू शुरू होता है। और उस दिन सभी लोग कच्ची हल्दी से नहाकर नए कपड़े पहनकर पूजा-पाठ करते है।

उसके पश्च्यात दही चिवड़ा एवं नाना तरह के पकवान खा कर आनद उपभोग करते है। और इस पूजा के दौरान 7 दिन के अंदर 101 तरह की हरी पत्तियों वाला साग खाने की भी रीति रिवाज है।

बिहार

बिहार के बारे में को नही जानता, हालांकि यह बात और है कि बिहार को कुछ लोग गलत नजर से भी जानते है और कुछ सही नजर से भी देखते है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि सबसे बड़ी जनसंख्या यहीं पर है और सबसे अधिक गैरकानूनी काम भी यही पर किए जाते है, जितने भी बड़े बड़े दरिंदे यानी गुंडे बदमाश निकले है वो सभी बिहार के ही है ऐसा मन जाता है।

और यहां के नेता केवल अपने निजी स्वार्थ को ही देखते है इसलिए यह राज्य इतना आगे नही बढ़ पाया है, किन्तु इसके अतिरिक्त बिहार एक समृद्धिशील राष्ट्र है।

यहां के लोग कला प्रेमी भी होते है, के ऐसे दिग्गज कलाकार है जिन्हें हम पसंद करते है वो बिहार से है। Bharat mein kitne rajya hain

मगध और लिच्छवी के शासनकाल की कार्यपद्धति से ही आधुनिक प्रशासनिक व्यवस्था की शुरुआत हुई। अर्थशास्त्र के रचयिता चाणक्य का जीवन भी बिहार की धरती पर ही व्यतीत हुआ जो मगध के राजा चंद्रगुप्ता मौर्य के सलाहकार थे।

और यह सब जानते है कि चाणक्य कितने बुद्धिमान ब्यक्ति थे वे अपने बानी से ही सत्ता पलटने का ताकत रखते थे। किन्तु ऐसे चाणक्य का आजके समय मे कौड़ियों की कीमत है। क्योंकि यहां सब ज्ञानी है।

छत्तीसगढ़

इसका निर्माण १ नवम्बर २००० को हुआ था और यह भारत का २६वां राज्य है। पुरातन काल मे यह राज्य मध्य प्रदेश के अन्तर्गत था। डॉ॰ हीरालाल के मतानुसार छत्तीसगढ़ ‘चेदीशगढ़’ का अपभ्रंश हो सकता है।

कहानी और किशों में यह कहते है कि किसी समय इस राज्य में 36 गढ़ थे, इसीलिये इसे चतीशगढ़ के नाम से जाना गेया।

गोवा

अब भारत मे हो और गोवा के बारे में नही सुना तो आप भारतीय नही है ऐसा मेरा मानना है, गोवा एक ऐसा राज्य है जो अपने संस्कृति और मनोरंजन कार्यक्रमों केलिए प्रसिद्ध है।

हर साल हजारों लोग गोवा अपने आपको मनोरंजन करने केलिए जाते है, यह जितना एक पर्यटक स्थान है उतना ही इसका इतिहास भी रोचक है।

गोवा का इतिहास तीसरी सदी ईसा पूर्व में शुरू होता था, यहां पर मौर्य वंश शासन की स्थापना हुई, जिसके बाद कोल्हापुर के सातवाहन वंश के शासकों का अधिकार स्थापित हुआ, फिर 580 ईसवीं से 750 ईसवीं तक बदामी शासकों ने राज किया, 1312 ईसवीं में पहली बार गोवा दिल्ली सल्‍तनत के अधीन आ गया।

गुजरात

गुजरात का इतिहास पाषाण युग के समय बस्तियों व कबीलेवालों के साथ शुरू हुआ, इसके बाद चोलकोथिक और कांस्य युग के काबिले जैसे सिंधु घाटी सभ्यता के साथ गुजरात आगे बढ़ा। और एवज गुजरात भारत के सबसे धनी राज्य में से एक मन जाता है।

यहां के लोग कारोबार प्रति अधिक आकर्षित रहते है और यहां के भोजन अपने आप मे ही अलग ब्याख्या बयान करती है।

ढोकला, कहकर, थेपला, उनदियो जैसे खाना मैन मोहक है जिससे हर गुजराती दिल से जुड़ा हुआ है।

हरियाणा

इसके बारे में मुझे अधिक ज्ञान तो नही है किंतु, हरियाणवी संस्कृति एक समृद्ध संस्कृति है, जिसका पूरे भारत वर्ष के साथ-साथ विदेशों में भी डंका है। हरियाणा का नाम लेते ही हमारे मस्तिष्क में एक ऐसे प्रदेश की छवि उभर आती है जिसकी पुरातन धरोहर अत्यंत समृद्ध है और वर्तमान में भी जो देश के सर्वाधिक समृद्ध राज्यों में से एक है। वैदिक भूमि हरियाणा भारतीय सभ्यता का पालना रही है।

हिमाचल प्रदेश

इन राजाओं ने हिमाचल प्रदेश में शामिल होने के लिए 8 मार्च 1948 को एक समझौते पर हस्ताक्षर किए। 15 अप्रैल 1948 ई. को हिमाचल प्रदेश राज्य का निर्माण किया था। उस समय प्रदेश भर को चार जिलों में बांटा गया और पंजाब हिल स्टेट्स को पटियाला और पूर्व पंजाब राज्य का नाम दिया गया।

झारखंड

झारखंड का इतिहास पाषाण काल से आरंभ हुआ था, ऐसा इसलिए है क्योंकि यहाँ से ताम्र पाषाण युग के ताँबे के बने उपकरण प्राप्त हुए हैं। यह क्षेत्र ईसा पूर्व दूसरी सहस्राब्दि में लौह युग में प्रवेश किया।

किन्तु आज के समय मे यह केवल एक आतंकवादी इलाका के रूप में जाना जाने लगा है क्योंकि यहां आए दिन दंगे होते रहते है, ऐसा नही है कि यह यहां के निबसिओं की गलती है।

यह यहां के सत्ता और नेताओं का गलती है जो केवल अपने निजी कार्य के प्रति सदैव तत्पर रहते है। का ही कोई उन्नति कभी कोई ज्ञान की बात यह नही की जाती और यहां की सिक्ष्या ब्यबस्था तो और भी खराप है, जो आज कल के YouTube चैनल में देखने को मिलता है।

कर्नाटक

पहले यह मैसूर राज्य कहलाता था। 1973 में पुनर्नामकरण कर इसका नाम कर्नाटक कर दिया गया। इसकी सीमाएं पश्चिम में अरब सागर, उत्तर पश्चिम में गोआ, उत्तर में महाराष्ट्र, पूर्व में आंध्र प्रदेश, दक्षिण-पूर्व में तमिल नाडु एवं दक्षिण में केरल से लगती हैं। 29 जिलों के साथ यह राज्य आठवां सबसे बड़ा राज्य है।

केरल

कहा जाता है कि “चेर – स्थल”, ‘कीचड’ और “अलम-प्रदेश” शब्दों के योग से केरल शब्द बना है। केरल शब्द का एक और अर्थ है : – वह भूभाग जो समुद्र से निकला हो। समुद्र और पर्वत के संगम स्थान को भी केरल कहा जाता है। प्राचीन विदेशी यायावरों ने इस स्थल को ‘मलबार’ नाम से भी सम्बोधित किया है।

मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश भारत का एक राज्य है, इसकी राजधानी भोपाल है। मध्य प्रदेश 1 नवंबर, 2000 तक क्षेत्रफल के आधार पर भारत का सबसे बड़ा राज्य था। इस दिन मध्यप्रदेश राज्य से 16 जिले अलग कर छत्तीसगढ़ राज्य की स्थापना हुई थी। मध्य प्रदेश की सीमाऐं पाँच राज्यों की सीमाओं से मिलती है।

महाराष्ट्र

तेज जीवन अधूरे सपने चमचमाता सहर सबसे अधिक जनसंख्या और सबसे अधिक आशा से भरपुर लोग, एहि है महाराष्ट्र की पहचान।

ऐसा माना जाता है कि सन १००० ईसापूर्व से पहले महाराष्ट्र में खेती होती थी लेकिन उस समय मौसम में अचानक परिवर्तन आया और कृषि रुक गई थी। सन् ५०० इसापूर्व के आसपास मुंबई (प्राचीन नाम शुर्पारक, सोपर) एक महत्वपूर्ण पत्तन बनकर उभरा था।

मणिपुर

1947 में जब अंग्रेजों ने मणिपुर छोड़ा तब से मणिपुर का शासन महाराज बोधचन्द्र के कन्धों पर पड़ा। 21 सितम्बर 1949 को हुई विलय संधि के बाद 15 अक्टूबर 1949 से मणिपुर भारत का अंग बना। 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान लागू होने पर यह एक मुख्य आयुक्त के अधीन भारतीय संघ में भाग ‘सी’ के राज्य के रूप में शामिल हुआ।

मेघालय

मेघालय का गठन असम राज्य के दो बड़े जिलों संयुक्त खासी हिल्स एवं जयन्तिया हिल्स को असम से अलग कर 21 जनवरी, 1972 को किया गया था। इसे पूर्ण राज्य का दर्जा देने से पूर्व 1970 में अर्ध-स्वायत्त दर्जा दिया गया था। 19वीं शताब्दी में ब्रिटिश राज के अधीन आने से पूर्व गारो, खासी एवं जयंतिया जनजातियों के अपने राज्य हुआ करते थे।

मिजोरम

मिजोरम एक पर्वतीय प्रदेश है। 1986 में भारतीय संसद ने भारतीय संविधान के 53वें संशोधन को अपनाया, जिसने 20 फरवरी 1987 को भारत के 23वें राज्य के रूप में मिजोरम राज्य के निर्माण की अनुमति दी। १९७२ में केंद्रशासित प्रदेश बनने से पहले तक यह असम का एक जिला था।

नगालैंड

नागालैंड भारत के उत्तर-पूर्व में स्थित एक भारतीय राज्य है, यह 1 दिसम्बर 1963 को भारत का 16वाँ राज्य बना। यह भारत का सबसे छोटा राज्य है। इसकी राजधानी कोहिमा है। इस राज्‍य के पूर्व में म्यांमार, पश्चिम में असम, उत्तर में अरुणाचल प्रदेश, और दक्षिण में मणिपुर से घिरा हुआ है।

ओडिशा

इस राज्य की स्थापना भागीरथ वंश के राजा ओड ने की थी, जिन्होने अपने नाम के आधार पर नवीन ओड-वंश व ओड्र राज्य की स्थापना की। समय विचरण के साथ तीसरी सदी ई०पू० से ओड्र राज्य पर महामेघवाहन वंश, माठर वंश, नल वंश, विग्रह एवं मुदगल वंश, शैलोदभव वंश, भौमकर वंश, नन्दोद्भव वंश, सोम वंश, गंग वंश व सूर्य वंश आदि का आधिपत्य भी रहा।

पंजाब

पंजाब, जो फारसी भाषा की उत्पत्ति है और भारत में तुर्की आक्रमणकारियों द्वारा प्रयोग किया जाता था। पंजाब का शाब्दिक अर्थ है “पांच” (पंज) “पानी” (अब), अर्थात पांच नदियों की भूमि, जो इस क्षेत्र में बहने वाली पाँच नदियां का संदर्भ देते हैं। अपनी उपज भूमि के कारण इसे ब्रिटिश भारत का भंडारगृह बनाया गया था।

राजस्थान

राजस्थान का इतिहास प्रागैतिहासिक काल से शुरू होता है। ईसा पूर्व 3000 से 1000 के बीच यहाँ की संस्कृति सिंधु घाटी सभ्यता जैसी थी। 12वीं सदी तक राजस्थान के अधिकांश भाग पर गुर्जरों का राज्य रहा है। गुजरात तथा राजस्थान का अधिकांश भाग गुर्जरत्रा (गुर्जरों से रक्षित देश) के नाम से जाना जाता था।

सिक्किम

सिक्किम सन 1642 में वजूद में आया, जब फुन्त्सोंग नाम्ग्याल को सिक्किम का पहला चोग्याल(राजा) घोषित किया गया. नामग्याल को तीन बौद्ध भिक्षुओं ने राजा घोषित किया था. इस तरीके से सिक्किम में राजतन्त्र का की शुरूआत हुई. जिसके बाद नाम्ग्याल राजवंश ने 333 सालों तक सिक्किम पर राज किया.

तमिलनाडु

आधुनिक भारत का तमिलनाडु नामक क्षेत्र में १५,००० ई॰ पूर्व से १०,००० ई॰ पूर्व के प्रागैतिहासिक काल से मानव सभ्यता के प्रमाण मिलते हैं। ब्रिटिश शासनकाल में यह प्रदेश मद्रास प्रेसिडेंसी का भाग था। स्वतन्त्रता के बाद मद्रास प्रेसिडेंसी को विभिन्न भागों में बाँट दिया गया, जिसका परिणति मद्रास तथा अन्य राज्यों में हुई

तेलंगाना

तेलंगाना हैदराबाद, हैदराबाद के निज़ाम के शासन का राजसी राज्य के तेलुगू-भाषी क्षेत्र के रूप में एक इतिहास था। यह 1948 में भारतीय संघ में शामिल हो गए। 1956 में हैदराबाद राज्य भंग के रूप में भाषायी आधार पर पुनर्गठन के राज्य और तेलंगाना का हिस्सा प्रपत्र आंध्र प्रदेश के पूर्व आंध्र प्रदेश के साथ विलय हो गया।

त्रिपुरा

त्रिपुरा की स्थापना 14वीं शताब्दी में माणिक्य नामक इण्डो-मंगोलियन आदिवासी मुखिया ने की थी, जिसने हिंदू धर्म अपनाया था। 1808 में इसे ब्रिटिश साम्राज्य ने जीता, यह स्व-शासित शाही राज्य बना। 1956 में यह भारतीय गणराज्य में शामिल हुआ और 1972 में इसे राज्य का दर्जा मिला।

उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश का इतिहास भारत के व्यापक इतिहास से बहुत जुड़ा हुआ है। यह 4000 वर्ष पुराना है| पूर्व में उत्तर प्रदेश का क्षेत्र आर्यों या दासों के कब्जे में था और उनका मुख्य व्यवसाय कृषि था। विजय प्राप्त कर आर्यों ने आस पास के क्षेत्रों पर कब्जा कर लिया। राज्य महाभारत युद्ध का केंद्र था।

उत्तराखंड

उत्तराखण्ड (पूर्व नाम उत्तरांचल), उत्तर भारत में स्थित एक राज्य है जिसका निर्माण ९ नवम्बर २००० को कई वर्षों के आन्दोलन के पश्चात भारत गणराज्य के सत्ताइसवें राज्य के रूप में किया गया था। सन २००० से २००६ तक यह उत्तरांचल के नाम से जाना जाता था।

पश्चिम बंगाल

भारत को आजादी मिलने से पहले इस राज्य को सभी बंगाल नाम से बुलाते थे। लेकिन देश को आजादी मिलने के बाद इसे पश्चिम बंगाल नाम दिया गया। कोलकाता इस राज्य की राजधानी है और यह इस राज्य का सबसे बड़ा शहर है। बंगाली भाषा में इस राज्य को पश्चिम बांगा कहा जाता है।

Bharat mein kitne rajya hain table

क्रमांकराज्य के नामभाषाएं
1
2
3
4
5
6
7
8
9
10
11
12
13
14
15
16
17
18
19
20
21
22
23
24
25
26
27
28
आंध्र प्रदेश
अरुणाचल प्रदेश
असम
बिहार
छत्तीसगढ़
गोवा
गुजरात
हरियाणा
हिमाचल प्रदेश
झारखंड
कर्नाटक
केरल
मध्य प्रदेश
महाराष्ट्र
मणिपुर
मेघालय
मिजोरम
नगालैंड
ओडिशा
पंजाब
राजस्थान
सिक्किम
तमिलनाडु
तेलंगाना
त्रिपुरा
उत्तर प्रदेश
उत्तराखंड
पश्चिम बंगाल
तेलुगु
अंग्रेज़ी
असमिया
हिंदी
हिंदी
कोंकणी
गुजराती
हिंदी
हिंदी
हिंदी
कन्नड़
मलयालम
हिंदी
मराठी
मणिपुरी
अंग्रेज़ी
मिजो, अंग्रेजी
अंग्रेज़ी
ओडिया
पंजाबी
हिंदी
अंग्रेज़ी
तामिल
तेलुगू, उर्दू
कोकबोरोक (त्रिपुरी)
हिंदी
हिंदी
हिंदी, उर्दू, संथाली,बंगाली

निष्कर्ष

तो मोटरों मुझे आशा है कि आपको यह लेख पसंद आया है, यदि ऐसा है तो आप इस लेख को अपने मित्रों व परिवार वालों के साथ साझा कर सकते है, और यदि आपके मन मे कोई संकोच या प्रश्न है तो हमसे संपर्क कर पूछ सकते है, धन्यबाद।

Previous articleITI full form | what is ITI 2022 | Know the best knowledge about I.T.I.
Next articleDownloadhub | 300MB Movies Dual Audio Bollywood Movies for free

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here